Shiv Chalisa in Hindi | Shiv Chalisa download in pdf

June 22, 2021 Add Comment
Shiv Chalisa in Hindi 

॥दोहा॥ 
जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान।
 कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥ 
  ॥चौपाई॥
जय गिरिजा पति दीन दयाला। सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥
 भाल चन्द्रमा सोहत नीके। कानन कुण्डल नागफनी के॥
 अंग गौर शिर गंग बहाये। मुण्डमाल तन क्षार लगाए॥
 वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे। छवि को देखि नाग मन मोहे॥ 
मैना मातु की हवे दुलारी। बाम अंग सोहत छवि न्यारी॥
 कर त्रिशूल सोहत छवि भारी। करत सदा शत्रुन क्षयकारी॥ 
नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे। सागर मध्य कमल हैं जैसे॥
 कार्तिक श्याम और गणराऊ। या छवि को कहि जात न काऊ॥
 देवन जबहीं जाय पुकारा। तब ही दुख प्रभु आप निवारा॥ 
किया उपद्रव तारक भारी। देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी॥ 
तुरत षडानन आप पठायउ। लवनिमेष महँ मारि गिरायउ॥ 
आप जलंधर असुर संहारा। सुयश तुम्हार विदित संसारा॥ 
त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई। सबहिं कृपा कर लीन बचाई॥ 
किया तपहिं भागीरथ भारी। पुरब प्रतिज्ञा तासु पुरारी॥
 दानिन महँ तुम सम कोउ नाहीं। सेवक स्तुति करत सदाहीं॥ 
वेद माहि महिमा तुम गाई। अकथ अनादि भेद नहिं पाई॥ 
प्रकटी उदधि मंथन में ज्वाला। जरत सुरासुर भए विहाला॥ 
कीन्ही दया तहं करी सहाई। नीलकण्ठ तब नाम कहाई॥
 पूजन रामचन्द्र जब कीन्हा। जीत के लंक विभीषण दीन्हा॥ 
सहस कमल में हो रहे धारी। कीन्ह परीक्षा तबहिं पुरारी॥ 
एक कमल प्रभु राखेउ जोई। कमल नयन पूजन चहं सोई॥ 
कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर। भए प्रसन्न दिए इच्छित वर॥ 
जय जय जय अनन्त अविनाशी। करत कृपा सब के घटवासी॥ 
दुष्ट सकल नित मोहि सतावै। भ्रमत रहौं मोहि चैन न आवै॥ 
त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो। येहि अवसर मोहि आन उबारो॥ 
लै त्रिशूल शत्रुन को मारो। संकट ते मोहि आन उबारो॥
 मात-पिता भ्राता सब होई। संकट में पूछत नहिं कोई॥
 स्वामी एक है आस तुम्हारी। आय हरहु मम संकट भारी॥ 
धन निर्धन को देत सदा हीं। जो कोई जांचे सो फल पाहीं॥ 
अस्तुति केहि विधि करैं तुम्हारी। क्षमहु नाथ अब चूक हमारी॥ 
शंकर हो संकट के नाशन। मंगल कारण विघ्न विनाशन॥ 
योगी यति मुनि ध्यान लगावैं। शारद नारद शीश नवावैं॥
 नमो नमो जय नमः शिवाय। सुर ब्रह्मादिक पार न पाय॥ 
जो यह पाठ करे मन लाई। ता पर होत है शम्भु सहाई॥
 ॠनियां जो कोई हो अधिकारी। पाठ करे सो पावन हारी॥ 
पुत्र होन कर इच्छा जोई। निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई॥
 पण्डित त्रयोदशी को लावे। ध्यान पूर्वक होम करावे॥
 त्रयोदशी व्रत करै हमेशा। ताके तन नहीं रहै कलेशा॥
 धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे। शंकर सम्मुख पाठ सुनावे॥
 जन्म जन्म के पाप नसावे। अन्त धाम शिवपुर में पावे॥
 कहैं अयोध्यादास आस तुम्हारी। जानि सकल दुःख हरहु हमारी॥ 
  ॥दोहा॥ 
नित्त नेम कर प्रातः ही, पाठ करौं चालीसा। तुम मेरी मनोकामना, पूर्ण करो जगदीश॥ 
मगसर छठि हेमन्त ॠतु, संवत चौसठ जान। अस्तुति चालीसा शिवहि, पूर्ण कीन कल्याण॥

Loot Liya - Khasa Aala Chahar HD MP3 Audio Download and full lyrics in Hindi

April 03, 2021 Add Comment
Loot Liya - Khasa Aala Chahar | Download full MP3 Audio 

Song : Loot Liya (Official Video)
Singer/Lyricist/Composer : Khasa Aala Chahar
Instagram : https://www.instagram.com/khasa_aala_...​
Music : Ghanu Music
Mix Master : D Chandu
Female Lead : Shweta Chauhan
Director : Ameet Choudhary

Download the full Audio 


Loot Liya Khasa Aala Chahar full lyrics in hindi 

जब देख्या पहली बार तेरे ती
प्यार तेरे तै होग्या रै
यो टूट ना जावै सपना सा
या सोच फेर तै सोग्या रै
मैं खुद सपने म खोग्या रै
मनै बेरा ना के होग्या रै
लोकेशन तेरी भरदी ओये
और तेरे प्यार का रूट लिया

ओये लूट लिया रै लूट लिया
ओये दिन धोले तनै लूट लिया
ओये तू चम्बल की डाकू सै
तनै दिन धोले मैं लूट लिया
लूट लिया लूट लिया

(संगीत)

ओ कित तै रै तू आई है
और कित सी तन्नै जाणा सै
डिबेट चलैगी तेरे पै
इब शुरू करया सै गाणा रै
अभियान सर्च तेरा जारी है
तनै गलती करदी भारी सै
इब छापा पड़ना तेरे पै
तेरा जनहित भीतर जारी है
सै हानिकारक जहर तेरा
और गलती तै मनै घूट लिया

ओये लूट लिया रै लूट लिया
ओये दिन धोले तनै लूट लिया
ओये तू चम्बल की डाकू सै
तनै दिन धोले मैं लूट लिया
लूट लिया लूट लिया

(संगीत)

तू पऊव्वे जितणी दिखण म
और बोतल बरगा असर तेरा
रै समझ किसे कै आया ना
इसा कर दिया सै यु हशर मेरा
न्यू आगै पाछै बोहोत घणी
पर दिल तेरे पै आया सै
अखंड तारीफ की पात्र तू
जबे गीत तेरे पै गाया है
बाकी तो सब मोह माया सै
अड़ै सबका भांडा फूट लिया

ओये लूट लिया रै लूट लिया
तनै खासा आला लूट लिया
ओये तू चम्बल की डाकू सै
तनै दिन धोले मैं लूट लिया
लूट लिया लूट लिया

(संगीत)

ओये यार तेरा फुल पापी है
ना दूजी कोई कॉपी सै
मैं एक ऐकला एंटीक सूं
या न्यूज़ा नै भी छापी है
रै दिल तै धन्यवाद करूँ
मेरी जिंदगी म जो आयी तू
ये सारे राजी हो ज्यांगे
बण जा इनकी भरजाई तू
चल छोड़ जीन्स और टॉप तेरा
जा मेरे नाम का लियाा

ओये लूट लिया रै लूट लिया
ओये दिन धोले तनै लूट लिया
ओये तू चम्बल की डाकू सै
तनै दिन धोले मैं लूट लिया
लूट लिया लूट लिया

By : www.jatsworld.in

Harsh Beniwal - Age , GF , Qualifications and More | Full Biography

February 02, 2021 Add Comment
Harsh Beniwal Age, Height, Girlfriend, Weight, Biography & More


Harsh Beniwal is a Youtuber from Delhi, India. He was born on 13 February 1996 at Delhi, India. Harsh Beniwal completed his graduation (B.C.A) from Shree Aurobindo College.




Harsh Beniwal Youtube Channel Name is “Harsh Beniwal”. He has more than 7.2 Million ( in Jan,2020) Subscribers. Check out the table to know more about Harsh Beniwal.


Harsh Beniwal vines & Harsh Beniwal videos
Harsh Beniwal Biography
Nickname :            Not Know
Date of Birth :       13 February 1996
Age (as 2021) :     25 Years
Nationality :           India
Place of Birth :      Delhi, India
Religion  :               Hinduism

Physical Stats

Height :        5 Ft 5″ (165 cm) approximately
Weight :        65 Kg approximately
Hair :             Black
Eye Color :    Dark Brown

Family & Personal Life

Father :        Not Know
Mother:        Not Know
Sister   :     1
Brother :       Not Know
Girlfriends/Affairs : Pratishtha Sharma
Marital Status :    Unmarried
Wife/Spouse   :    N/A 
Favorite Actor :    Varun Dhavan 
Favorite Actresses :                            Deepika Padukone       
Food :         Italian, Chinese
Hobbies :  Hanging out with friends, Gymming, Watching Films

Career & Net Worth

Profession :      Actor & Viner 
Net Worth (2020) :  Rs.50 Lakhs – Rs.80 Lakhs (approximately)
Famous For :                                      Youtuber & Instagrammer

Harsh Beniwal Age, Height, Girlfriend, Weight, Biography & More

Harsh beniwal is famous for his Youtube channel. Harsh Beniwal height is 5 Feet 5 Inches and his weight is 65Kg. Harsh Beniwal age is 25 Years as of 2021. Harsh Beniwal Girlfriend name is Parthishtha Sharma .

Harsh Beniwal Instagram – https://www.instagram.com/harshbeniwal/?hl=en


Reason Behind - Majha, Malwa and Doaab region of Punjab

January 31, 2021 Add Comment
How are the Majha, Doaba and Malwa regions of Punjab differentiated?


Punjab state is divided into three major regions Majha, Malwa and Doaba. This division of Punjab is basically due to the rivers Sutlej (or Satluj) and Beas flowing through the land of Punjab. In the historical times, it was not easy to cross the rivers and hence the areas divided by rivers were considered as separate regions. The regions were often ruled by different rulers or kings. The interaction between the people living in these geographically separated areas was limited. Due to this, there is a difference between the language and culture of the people living in these regions. Note that the regions Malwa, Majha and Doaba span over the parts of historic Punjab region which includes today's Punjab (India), Haryana, Himachal Prades and Punjab (Pakistan), but this article will mainly focus on the details that are relevant to today's state of Punjab in India.

The page is divided into following section:

Majha Region of Punjab

Malwa Region of Punjab

Doaba Region of Punjab

Powadh Region of Punjab

Majha Malwa Doaba - Regions of Punjab The following table gives a summary of Majha, Malwa and Doaba:

Regions of Punjab

Region Area Language Demonym

Majha Between Ravi and Beas Majhi Majhi or Majhel

Malwa South of Sutlej Malwai Malwai

Doaba Between Sutlej and Beas Doabi Doabia

Suggested Reading:

Five Rivers of Punjab

Geography of Punjab

Majha Region of Punjab

Majha region mainly covers the area between Beas and Ravi rivers. The area on the north of Sutlej, after the confluence of Beas and Sutlej at Harike in Tarn Taran district, extending upto the Ravi river is also part of the Majha region. The literal meaning of word Majha means 'in the middle' or 'at the center'. This area was in the middle (or central part) of the historic Punjab region, hence giving it the name Majha. The Majhi dialect of Punjabi language is the main language of this region. The people of this region are given the demonym 'Majhi' or 'Majhel'. This area includes a major region of Pakistan's Punjab, extending upto Jehlum river and here we will mainly talk about the region within Punjab state in India. The area between Beas and Ravi rivers is also called as Bari Doab. A list of districts of Punjab, which are part of Majha region, is given below:

Amritsar

Gurdaspur

Pathankot

Tarn Taran

Malwa Region of Punjab


The region of Punjab towards the left bank of Sutlej river is called Malwa. Malwa extends upto Ambala district in Haryana, beyond the borders of Punjab state. Almost 60-70% area of Punjab state is part of this region. The people of this region are given the demonym 'Malwai'. The primary language of this region is Malwai dialect of Punjabi. Malwai Punjabi is considered very close to the written Punjabi. The districts of Punjab which are part of this region:

Barnala

Bathinda

Fatehgarh Sahib

Faridkot

Fazilka

Firozpur

Ludhiana

Mansa

Moga

Mohali

Muktsar

Patiala

Ropar

Sangrur

NOTE: There is a Malwa Plateau region in the central part of India, which occupies some parts of Madhya Pradesh and Rajasthan. When we are talking about India, the word Malwa mainly refers to that region and it has no relation with the Malwa region of Punjab.

Doaba Region of Punjab

The area between the rivers Satluj and Beas is called as Doaba. The area is also called Bist Doab or Jalandhar Doab (also spelled as Jullundhar Doab). The word Doaba is made up of two words 'Do' meaning two and 'Aab' means water or river, so the literal meaning of word Doaba is the area between two rivers. Doabi dialect of Punjabi language is the primary language spoken in this part of Punjab. The people of this part are known with the demonym 'Doabia'. This area is sometimes referred as NRI hub of Punjab as a large number of people from this region are settled in foreign lands like UK, Canada, USA, Dubai and Europe etc. The districts of Punjab which are part of Doaba region:

Jalandhar

Kapurthala

Hoshiarpur

Nawanshahr (Shaheed Bhagat Singh Nagar)

Powadh Region of Punjab

Powadh (or Poadh or Puadh) is another major region of Punjab. Powadhi dialect of Punjabi language, which is a mix of Malwai Punjabi and Haryanvi, is spoken in this region. Powadh is sometimes not considered as a separate region and this area is mostly included in the Malwa region of Punjab. The Punjabi speaking area near the Ghaggar river, mostly adjacent to Chandigarh is considered part of Powadh region. It includes parts of Patiala, Mohali and Ropar districts of Punjab and Panchkula and Ambala districts in Haryana.

What is the difference between sleep apnea and narcolepsy?

Paramjot Singh Sangha
Answered December 30, 2017
Like now a days for admistration, areas are divided into district, in the same way during mughal empire the districts were on the basis of land divided by rivers. Generally region lying between two rivers is equivalent to district and it is called doaab (which is made up of two words do-aab and just like name of punjab it also had the means in same way. Out of do-aab, first part i.e. do means two in punjabi and aab means river , hence doaab means land lying between two rivers). Back to mughal times these doabas were named on the basis of rivers making its boundaries. Like now a days the region called diaba was orignally BIST( ਬਿਸਤ) doaab which is made from the name of Beas and Satluj river which makes its boundaries. In those times there are no bridges so people gernally do not cross river


Baljeet Singh
Answered December 2, 2017
Majha, Doaba and Malwa division of a state is based on the availability of rivers.

Majha means center. In undivided Punjab the area between Ravi and Beas river is known as “Majha” Baically this has been a center of Punjabi culture from millenium. The punjabi used in this area is known as real Punjabi.

The area left side of Beas but right side of Satlej and other side side of Ravi but this side of Indus is known as Doaba.

The area outside of these rivers is known as Malwa.

Gurdaspur, Taran Taran, Amritsar, Firozpur is in Majha, Hoshiarpur, Jallundhar is in Doaba and rest of the Eastern Punjab- Ropar, Patiala, Sangrur, Bathinda etc is in Malwa region of Punjab.


Coronavirus Vaccine टीकाकरण 13 जनवरी से शुरु : Vaccine लगवाने से पहले जान ले ये बहुत जरूरी बातें ........

January 10, 2021 Add Comment

देश में कोरोना (Corona In India News) के घटते मामलों के बीच कोरोना वैक्सीन (Covid-19 Vaccine Updates) दिए जाने की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। 3 जनवरी को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) की तरफ से सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के टीका कोविशील्ड और स्वदेश में विकसित कोवैक्सीन को मंजूरी दी जा चुकी है। मंगलवार को स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से कहा गया कि 10 दिन के भीतर यानी 13 जनवरी से वैक्सीन लगाने की शुरुआत की जा सकती है।

    
Corona Vaccine Updates: 13 जनवरी से लग रही वैक्सीनः लगाने से पहले ये 10 बातें जरूर जान लीजिए


ऐसे में लोगों के मन में वैक्सीन को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं। ये किसको वैक्सीन लगेगी, इसके लिए क्या रजिस्ट्रेशन कराना होगा? वैक्सीन की कितनी डोज लगेंगी? वैक्सीन के लिए क्या पैसे भी देने होंगे? 13 तारीख से वैक्सीन लोगों को लगना शुरू हो जाएगा। DGCI ने कोवीशील्ड और कोवैक्सीन (Covaxin News) को मंजूरी दी है। कोवैक्सीन को DGCI ने आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी है। हालांकि, कोवैक्सीन के इस्तेमाल को लेकर कांग्रेस समेत कई विशेषज्ञों ने सवाल उठाया है।

पहले किसे लगेगी कोरोना वैक्सीन

भारत सरकार की तरफ से इसके लिए प्रायोरिटी ग्रुप का चयन किया गया है। सरकार तीन चरणों में टीका लगवाएगी। पहले चरण में सभी फ्रंटलाइन हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स व हाई रिस्क डेथ वाले और दूसरे चरण में इमरजेंसी सर्विसेज से जुड़े लोगों को वैक्सीन दी जाएगी। तीसरे चरण में उन लोगों को वैक्सीन दी जाएगी जो गंभीर बीमारियों के शिकार हैं। इसके लिए कई राज्यों ने अपने यहां स्वास्थ्यकर्मियों की लिस्ट भी तैयार कर ली है। उदाहरण के लिए ओडिशा राज्य में स्थानीय प्रशासन ने तीन लाख से अधिक स्वास्थ्यकर्मियों की लिस्ट बनाई हुई है।


कितने लोगों को लगेगा टीका


भारत सरकार का लक्ष्य जुलाई 2021 तक 30 करोड़ लोगों को कोविड वैक्सीन देने का है। इसे विश्व का 'सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान' भी कहा जा रहा है। भारत में कोविड-19 के एक्टिव मामलों में तेजी से कमी आई है। यह संख्या 2,31,036 रह गई है, जो अभी तक के कुल संक्रमितों का 'महज' 2.23 फीसदी है।



रजिस्ट्रेशन के लिए क्या होगा जरूरी


कोरोना वैक्सीन के रजिस्ट्रेशन के लिए निम्नलिखित में से कोई भी एक डॉक्यूमेंट दिखाना होगा।


आधार कार्ड


ड्राइविंग लाइसेंस


हेल्थ इंश्योरेंस स्मार्ट कार्ड


मनरेगा जॉब कार्ड


पैन कार्ड


बैंक या पोस्ट ऑफिस की पासबुक


पासपोर्ट


पेंशन डॉक्यूमेंट


केंद्र, राज्य व पीएयू कर्मचारियों का आई कार्ड


वोटर आईडी



क्या रजिस्ट्रेशन होगा जरूरी


कोरोना वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी होगा। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को यह निर्देश दिए गए हैं कि सभी लाभार्थियों का ब्यौरा को-विन (Co-WIN)कोविड वैक्सीन इंटेलिजेंस नेटवर्क सिस्टम ऐप पर अपलोड हो। ऐसे में आपको इस ऐप पर रजिस्टर कराना होगा। हेल्थ वर्कर्स और अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों को खुद को रजिस्टर्ड कराने की जरूरत नहीं है क्योंकि उनका डाटा बड़े पैमाने पर को-विन वैक्सीन डिस्ट्रीब्यूशन मैनेजमेंट सिस्टम में फीड है।



वैक्सीन पर कितना खर्च आएगा


कई राज्य और केंद्र शासित प्रदेश पहले ही घोषणा कर चुके हैं कि सरकार निशुल्क टीकाकरण के लिए टीके का खर्च वहन करेगी। सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने एक बयान में कहा कि भारत सरकार के लिए, कोविड वैक्सीन प्रति डोज 3 से 4 डॉलर होगी। प्रत्येक व्यक्ति को वैक्सीन की दो डोज लगाई जाएंगी। इसलिए 6 डॉलर (440 रुपये प्रति व्यक्ति) की वैक्सीन पड़ेगी। हालांकि पूनावाला ने कहा कि बाजार में इसकी कीमत लगभग 700-800 रुपये होगी।



क्या सभी को लगवानी होगी वैक्सीन?


ऐसा नहीं है। कोरोना वैक्सीन लगवाना पूरी तरह से आपकी मर्जी पर निर्भर है। हालांकि, एक्सपर्ट का कहना है कि खुद की सुरक्षा के लिए वैक्सीन की पूरी डोज लेना जरूरी है। इसकी वजह है कि इस बीमारी का संक्रमण एक व्यक्ति से उसके परिवार के सदस्यों, दोस्तों, रिश्तेदारों और काम करने वाले सहयोगियों में ना हो।



क्या देश में और वैक्सीन भी आएंगी?


हां, अभी तक सिर्फ दो वैक्सीन के इमरजेंसी यूज को मंजूरी दी गई हैं। लेकिन अभी कई कंपनियां वैक्सीन पर काम कर रही हैं। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा कि अब से तीन से चार महीने बाद अन्य टीके भी उपलब्ध होंगे और तब भंडार भी बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि तब वैक्सीनेशन प्रोग्राम में अधिक तेजी लायी जा सकती है।



वैक्सीन की कितनी खुराक है उपलब्ध

सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) अब तक ऑक्सफोर्ड एस्ट्राजेनेका कोविड-19 टीके की करीब पांच करोड़ खुराक का उत्पादन कर चुकी है। कंपनी ने सोमवार को कहा कि उसका लक्ष्य मार्च तक 10 करोड़ खुराक के उत्पादन का है। अगर मामलों में बढ़ोतरी होगी तो देश में वैक्सीन के बड़े डोज की जरूरत होगी।


कैसे मिलेगी वैक्सीन लगवाने की जानकारी

सरकार की तरफ से प्रायोरिटी ग्रुप का चयन किया गया है। यदि आप उस प्रायोरिटी ग्रुप में शामिल हैं तो आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर के जरिये आपको सूचना दी जाएगी। इसके साथ ही यह बताया जाएगा कि आपको वैक्सीन कहां दी जाएगी। इसके अलावा आपको वैक्सीन का पूरा शेड्यूल भी बताया जाएगा।


वैक्सीन लगवाने पर कोई साइड इफेक्ट्स हुआ तो

कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद किसी भी तरह का साइड इफेक्ट्स होने पर रियल टाइम रिपोर्टिंग का प्रोविजन है। अन्य फीचर्स में 12 भाषाओं में टेक्स्ट मैसेज, 24X7 हेल्पलाइन, चैट बोट असिस्टेंट भी उपलब्ध रहेगा। वैक्सीनेशन को लेकर 700 से अधिक जिलों में 90 हजार से अधिक लोगों को ट्रेंनिंग दिया जा चुका है।

जानिए क्यों किसान कृषि बिल का विरोध कर रहे हैं........

November 27, 2020 Add Comment

 Reasons why Punjab and Haryana Farmers Opposing the Agriculture Bill 2020 :


1. The Farmers' Produce Trade and Commerce (Promotion and Facilitation) Act, 2020 (कृषि उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सरलीकरण) एक्ट, 2020)

.
यह कानून मंडी सिस्टम को बायपास करता है, और मंडियों से बाहर कहीं भी उत्पाद बेचने की छूट देता है। इसमें यह भी लिखा है कि बाहर खरीदने/बेचने पर कोई टैक्स नहीं लगेगा जो मंडियों में लगता है। इस से सभी आढ़ती मंडियों से बाहर खरीदने लगेंगे और धीरे धीरे मंडी खत्म हो जाएगी। मंडियों के खत्म होने से न्यूनतम समर्थन मूल्य MSP भी अपने आप अप्रासंगिक हो जाएगा। हमारी मांग है कि सरकार कानून लाये कि मंडी या मंडी से बाहर MSP से नीचे खरीद गैरकानूनी होगी।
.
2. The Farmers (Empowerment and Protection) Agreement of Price Assurance and Farm Services Bill, 2020 (कृषक (सशक्तिकरण व संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार एक्ट, 2020
.
यह कानून कॉन्ट्रेक्ट खेती के लिए लाया गया है। वैसे इसमे अच्छी बात ये है कि किसी भी एग्रीमेंट में प्रॉपर्टी ट्रांसफर नहीं होगी। खराब बात ये है कि ये विवाद के मामले में किसानों को सिविल केस दायर करने से रोकता है, एग्रीमेंट वायलेशन होने पर मामलों की सुनवाई एसडीएम करेगा जिसकी अपील डीएम के पास होगी। किसानों का डर है कि ये एग्रीमेंट फसल बीमा के एग्रीमेंट की तरह हो सकते है, जिनमे बड़ी कंपनियां अफसरों के साथ मिलकर किसान को परेशान करेगी।
.
ये किसान को उसकी जमीन पर बंधुआ भी बना सकता है। मान लो कंपनी ने किसान से करार किया कि आप ये फसल बोनी है, हम इसको इस रेट पर खरीदेंगे, इसकी क्वालिटी ऐसी होनी चाहिए। तो इनमें इस तरह के केस आ सकते है जैसे क्वालिटी कम होने पर कंपनी पूरे पैसे नहीं देगी क्योंकि क्वालिटी कम होना एग्रीमेंट की शर्तों का उल्लंघन हो जाएगा। अगर कंपनी ने एडवांस में पैसा दे रखा होगा तो कंपनी किसान को अगली फसल के लिए भी बाध्य कर सकती है , क्योंकि कंपनी का पहले का पैसा किसान दे नही पायेगा , इस हालत में वो मज़बूरी में अगली फसल का कॉन्ट्रेक्ट कर लेगा तो इनके ऋण के चक्कर मे फंस जाएगा। ऐसे में अपने पैसे की वसूली के लिए कंपनी सिविल वाद ले आएगी और जमीन नीलाम करवा देगी।
.
इसलिए हमारी डिमांड है कि इसमें किसानों को ज्यादा सुरक्षा के प्रावधान किये जायें, ताकि वो बड़ी बड़ी कंपनियों के सामने कानूनी तौर पर मज़बूती से खड़ा रह सके। उसके लिए मुफ़्त कानूनी सहायता का प्रावधान हो। ऋण से भी सुरक्षा प्रदान की जाए। फसल की क्वालिटी एग्रीमेंट के हिसाब से न होने पर, नुकसान का हिस्सा कंपनी भी उठाएं, ऐसे जरूरी प्रावधान किए जाए। क्योंकि एग्रीमेंट के लिए किसान के पास न तो कानूनी जानकारी होती है जो वो एग्रीमेंट के टर्म अपने हिसाब से लिखवा सके। कंपनियों के पास लीगल एक्सपर्ट होते है। इसलिए किसान को पहले से ही ज्यादा सुरक्षा की जरूरत है।
.
3. Essential Commodities Amendment Act 2020 (जरूरी वस्तु संसोधन अधिनियम 2020)
.
ये तीसरा कानून आनाज , दाल आदि रोजमर्रा की जरूरी वस्तुओं की जमाखोरी को छूट देता है। इसको किसानों के लिए बताया जा रहा है, जबकि हम सबको पता है किसान अभी भी स्टॉक कर सकता था, पर उसकी हालत मजबूरी ऐसी है कि वो स्टॉक कर ही नही सकता। इसलिए ये कानून बड़े धन्ना सेठों को जमाखोरी की छूट देगा जिससे वे मार्केट में इन चीजों की कमी करके रेट बढ़ाएंगे। और मुनाफा कमाएंगे। इस से हर गरीब और मध्यम वर्ग को नुकसान होगा।
.
उम्मीद है इब सबकै समझ मै आगी होगी पूरी कहाणी...


जाट समाज - जो अब महाराष्ट्र का गर्व है।

November 06, 2020 Add Comment

महम चौबीसी से तो हम सभी परिचित हैं, ये जाटों के 24 गाँवों की खाप है जिसमें सह-जातियाँ भी सम्मिलित होती हैं। लेकिन जाट बाईसी का नाम बहुत कम लोगों ने सुना होगा । जाट बाईसी पूरी ऐतिहासिक घटना पर आधारित है। बम्बई से 180 कि. मी. दूर महाराष्ट्र राज्य के नासिक जिले की मालेगांव तहसील में जाटों के इकट्ठे छोटे-छोटे 22 गाँव हैं।
पानीपत की तीसरी लड़ाई में पेशवा ब्राह्मण व मराठे लगभग 4 हजार परिवार अपने साथ लाये थे। जब लड़ाई में इनकी हार हुई तो कुछ परिवार मारे गये और बचे-खुचे परिवारों ने भरतपुर नरेश महाराजा सूरजमल के राज क्षेत्र व किलों में पनहा ली थी। महाराजा सूरजमल ने कड़कती सर्दी (जनवरी 1761) में इनको पूरे अतिथि सत्कार के तहत घायलों आदि की देखभाल की तथा इन परिवारों को इनके घरो तक सकुशल पहुंचाने के लिए अपनी सेना के रोहतक व हिसार जिले के जाट सिपाही साथ भेजे जो उन्हें बड़ी इज्जत और सम्मान के साथ वहाँ उनके घरों तक ले गये, जो उस समय किसी भी कल्पना से परे था।


महाराजा सूरजमल और रानी किशोरी की शानदार मेहमानबाजी तथा इन हरियाणवी सिपाहियों की जिन्दादिली इंसानियत पर मराठा समाज कायल हो गया और इस समाज ने ऐसे नेक सिपाहियों, जिनकी शादियां नहीं हुई थी, को अपनी बेटियां देकर अपनी जम़ीन पर बसाने का फैसला लिया। समय अपनी गति से चलता रहा और आज लगभग 250 वर्ष बाद इनके 22 गाँव आबाद हो गये जो आज किसानी करके अपना निर्वाह करते हैं। इनके साथ भी वही हुआ जो आन्ध्रप्रदेश के गोलकुण्डा किले के विजेताओं के साथ हुआ या हो रहा है। क्या विश्व के इतिहास में ऐसा कोई दूसरा भी उदाहरण हैं? महाराजा सूरजमल की आलोचना करनेवालों के मुंह पर यह एक तमाचा है।
यहाँ के तोखड़ा गाँव में फिल्म अभिनेता व नेता धर्मेन्द्र जी ने अपनी माता सन्तकौर देवी के नाम हाई स्कूल बनवाया है। धर्मेन्द्र जी ने मुम्बई महानगर में पहली बार जाट सभा व जाट भवन की स्थापना की जिस पर जाट जाति को गर्व होना चाहिए।
इन जाटों के गोत्र हैं - मान, जाखड़, सिहाग, सहरावत, दहिया, बिजानियां, झिंझर, नीमड़िया, रांगी, रंधावा ,पूनिया, गिल, बैनीवाल और सांगवान (70 परिवार) आदि, इस जाट बाईसी के वर्तमान में चौ. धनसिंह सहरावत प्रधान हैं जिनका पता हैं:- गाँव - नारादाना, डाकखाना - कलवाड़ी, तहसील - मालेगांव जिला नासिक (महाराष्ट्र राज्य) (एक शोध प्रयास - लेखक)।

Jat World 💪💪
Jats world

Featured post

जाटों के बारे मे गजब तथ्य और इनका इतिहास

  जाटों के बारे में रोचक तथ्य मैं जाट हूँ मुझे जाट होने पर गर्व हैं लेकिन मैं दूसरों का भी उतना ही सम्मान करता हूँ, जितना वह मेरा? हम पू...